यहाँ कोई नियम नहीं, कोई बंदिश नहीं, बस वही बोलिए जो आपके अन्दर है, क्योंकि आपके अन्दर है भारत कि असली तस्वीर, तो छोडिये बनावटीपन, और आज निकाल डालिए मन कि भड़ास, अपनी रचना भेजने, अपनी बात कहने के लिए हमें मेल करें. editor.bhadohinews@gmail.com

गुरुवार, 21 जुलाई 2011

आज का भारत वर्ष !


जब आंतरिक मामले हों कमजोर
और हास्यास्पद हो विदेश नीति
अनुशाशन शुचिता क़ानून प्रबंधन
शून्य हों राजनैतिक इच्छाशक्ति 

भ्रष्टाचार के नशे में धुत गाड़ीवान
जब हम बैलों के ऊपर बोझ लादे
जबरन पिलाए रोज दूषित पानी
और शाम बारूद के उपर खूंटे बांधे 

इसे आजादी का चरमोत्कर्ष कहिये
विशाल लोकतंत्र भारत वर्ष कहिये !!
 - सुलभ

 http://sulabhpatra.blogspot.com/
--
Sulabh Jaiswal
Skype: IT.EXPERT

3 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

इसे आजादी का चरमोत्कर्ष कहिये
विशाल लोकतंत्र भारत वर्ष कहिये !!
sahi kaha hai aapne.sateek prastuti .

बेनामी ने कहा…

अापकी प्रस्‍तुति क्‍या खूब है
ऐसे ही लिखती रहिए


सुरिन्‍दर सामाजिक कार्यकरता दिल्‍ली से

सुरिन्‍दर सामाजिक कार्यकरता दिल्‍ली से ने कहा…

क्षमा का याचक हू
समयाभाव के कारण
अभी नहीं लिख पा रहा

मगर कहना चाहता हू कि

अापका यह प्रयास बहुत खूब है,
हमें पसंद आया

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...